पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंदर सहवाग ने टीम इंडिया को फटकार

इंग्लैंड के खिलाफ जारी पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में खराब प्रदर्शन को लेकर टीम इंडिया के ऊपर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। चौथे टेस्ट मैच में 60 रनों से मिली करीबी हार के साथ ही भारत ने सीरीज भी गंवा दी। चौथे टेस्ट मैच में 245 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया 184 के स्कोर पर ढेर हो गई। खराब बल्लेबाजी को लेकर हर कोई टीम की आलोचना कर रहा है। पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज और इंडिया टीवी से क्रिकेट एक्सपर्ट वीरेंदर सहवाग ने भी टीम इंडिया के प्रदर्शन को लेकर फटकार लगाई है। सहवाग ने टीम के प्रदर्शन पर बात करते हुए कहा कि बल्लेबाजी में आत्मविश्वास की कम दिखी। उन्होंने कहा कि भारत अभी भी कठिन परिस्थितियों में टेस्ट सीरीज जीतने में सक्षम नहीं मालूम पड़ता है।

कोच रवि शास्त्री समेत भारतीय टीम प्रबंधन ने इंग्लैंड का दौरा करने से पहले खुद को दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम कहते हुए काफी कुछ कहा था। लेकिन नतीजे उनके फेवर में आने के बाद सहवाग का मानना है कि इस तरह की बातों का कोई मतलब नहीं रह जाता है अगर इसे आप मैदान पर साबित नहीं कर पाते हैं।

सहवाग ने कहा, “बेस्ट ट्रैवलिंग टीम मैदान पर अपने प्रदर्शन से बनती कि ड्रेसिंग रूम में बैठकर बातें करने से। कोई भी जो कहना चाहें कह सकता लेकिन जब तक आपका बल्ला नहीं चलेगा आप कभी भी बेस्ट ट्रैवलिंग टीम नहीं बन सकते हैं।जब सहवाग से पूछा गया कि मौजूदा सीरीज में भारत की हार का मुख्य कारण क्या रहा, तो उन्होंने कहा कि वह इंग्लैंड में स्पिन खेल पाने की भारतीय बल्लेबाजों की अक्षमता पर हैरान थे। 

सहवाग ने कहा, “यहां तक कि पिछली बार (2014 में) भी जब भारत यहां आई थी तब भी मोइन अली दौरे पर स्पिनरों के बीच सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज के रूप में उभरा था। मुझे लगता है कि उन्होंने अश्विन की तुलना में बेहतर गेंदबाजी की, यहां तक कि इंग्लिश बल्लेबाजों ने हमारे बल्लेबाजों से बेहतर स्पिन को खेला। हालांकि ऐसा माना जाता है कि उपमहाद्वीपीय बल्लेबाज स्पिन को अच्छी तरह से खेलते हैं। लेकिन हमें दूसरी पारी में बल्लेबाजी और गेंदबाजी के लिए इंग्लैंड को श्रेय देना चाहिए।

सहवाग ने सीरीज हार के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली के बयानों की भी आलोचना की। मैच के बाद के प्रेस कॉन्फ्रेंस में इंग्लैंड को श्रेय देते हुए, कोहली ने कहा था कि वह खुश थे कि टीम ने सीरीज में अच्छी तरह से कंपटीशन की, कोहली ने सिर्फ खेद व्यक्त किया कि वे जीतने में कामयाब नहीं हो पाए।

कोहली के बयानों की आलोचना करते हुए सहवाग ने कहा, “हमने पहले ही सौरव गांगुली के तहत केवल एक टेस्ट मैच जीतने की कला सीखी हुई है, लेकिन हम विदेशों में एक सीरीज जीत नहीं पाए हैं। इसलिए समस्याएं अभी भी पहले जैसी ही हैं। उस समय समस्या ये थी कि हमारे बल्लेबाज रन बनाते थे लेकिन गेंदबाज 20 विकेट नहीं ले पाते थे। लेकिन अब हमारे पास गेंदबाजी वैसी है लेकिन बल्लेबाजी नहीं है जो रन बना सके। हमने पिछले कुछ टेस्ट में एक बार या दो बार छोड़कर एक पारी में हमने 300 से अधिक रन नहीं बनाए हैं। यह कहना बहुत आसान है किहम कोशिश कर रहे हैं‘, ‘हम उस लाइन को पार नहीं कर पा करे हैंयाहम अगली सीरीज में कोशिश करेंगे

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *